sad love shayari in hindi latest Sad Shayari.

sad love Shayari in Hindi In the present Era love is very underrated among people they are not able to express their feelings properly to their lovers. So with You can get here very emotionally sad Hindi Shayari for gloomy heart lover. If you are feeling very sad due to love break-up or harsh behavior of lover, reading Sad Shayari. Sad Shayari is that the express sad feeling of lovers. Sad Shayari in Hindi is a very trending search on the Internet. Every breakup lover loves to read sad Shayari 2021, Hindi sad Shayari, sad Shayari in Hindi for love, sad Shayari with images, sad Shayari download, sad Shayari for girls Also Read:-Sad Status​.

sad love shayari in hindi latest Sad Shayari. 

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।
Dard hain dil mein par iska ehsaas nahin hota,
Rota hain dil jab vo paas nahin hota,
Barbaad ho gae ham unkee mohabbat mein,
Aur vo kehte hain ki is tarah pyaar nahin hota!
sad shayari

एक उम्मीद मिली थी तुम्हारे आने से अब वो भी टूट गई
वफादारी की आदत थी हमें अब शायद वो भी छूट गई!

क्या-क्या नहीं किया मैंने तेरी एक मुस्कान के लिए
फिर भी अकेला छोड़ दिया उस अनजान के लिए।

जब मैं डूबा तो समुन्दर को भी हैरत हुयी
अजीब शख्स है किसी को पुकारता भी नहीं!

मैं फिर से निकलूंगा तलाश ए-जिन्दगी में,
दुआ करना दोस्तो इस बार किसी से इश्क ना हो।

दिल अमीर था और मुकद्दर गरीब था..
अच्छे थे हम मगर बुरा नसीब था..
लाख कोशिश कर के भी कुछ ना कर सके हम..
घर भी जलता रहा और समंदर भी करीब था।

सादगी इतनी भी नहीं है अब बाकी मुझमें,
कि तू वक़्त गुज़ारे और मैं मोहब्बत समझूं।

जिंदगी हमारी यूं सितम हो गई
खुशी ना जानें कहां दफन हो गई,
लिखी खुदा ने मुहब्बत सबकी तकदीर में,
हमारी बारी आई तो स्याही खत्म हो गई!

Read More:-2 line Sad Shayari

मैंने कभी किसी को आज़माया नही,
जितना प्यार दिया उतना कभी पाया नही,
किसी को हमारी भी कमी महसूस हो,
शायद खूदा ने मुझे ऐसा बनाया नहीं।
Hamne kabhi kisi ko aazmaya nahi,
jitna pyaar diya utna kabhi paya nahi,
kisi ko hamari bhi kami mehsoos ho,
shayad aisa khuda ne hame banaya nahi.

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,
यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है,
तड़प उठता हूँ “दर्द” के मारे…
ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है,
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,
मुझको तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

औकात नहीं थी ज़माने में जो मेरी कीमत लगा सके,
कम्बख़्त इश्क में क्या गिरे, मुफ्त में नीलाम हो गये।

बाज़ी-ए-मुहब्बत में हमारी बदकिमारी तो देखो,
चारों इक्के थे हाथ में, और इक बेग़म से हार गये!

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,
हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है। 😮

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लग के वो,
ऐसा लगा कि जैसे कभी बेवफा न थे वो। 😥

तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी,
वरना हमको कहाँ तुम से शिकायत होगी,
ये तो वही बेवफ़ा लोगों की दुनिया है,
तुम अगर भूल भी जाओ जो कौन सी नई बात होगी। 😎

बर्बाद कर गए वो ज़िंदगी प्यार के नाम से,
बेवफाई ही मिली हमें सिर्फ वफ़ा के नाम से,
ज़ख़्म ही ज़ख़्म दिए उस ने दवा के नाम से,
आसमान भी रो पड़ा मेरी मोहब्बत के अंजाम से।


Read More:-Best hindi Sad shayari

साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती,
दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती,
अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त,
कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती।

Saans Tham Jati Hai Par Jaan Nahi Jati,
Dard Hota Hai Par Awaz Nahi Aati,
Ajeeb Log Hai Iss Zamane Mein
Koi Bhul Nahi Pata or Kisi Ko Yaad Nahi Aati.

फिर से एक उम्मीद पाल बैठी हूँ,
फिर से तेरे पते पर चिट्टी डाल बैठी हूँ।
Phir se ek ummeed paal baithi hoon,
Phir se tere pate par chitti daal baithi hu.

उसने भी मेरे कत्ल की साजिश में कोई कसर न छोड़ी,
जिसकी जिंदगी के वास्ते हर दरगाह पर जाकर दुआ की थी हमने।

Dard hota hai par awaz nahi aati shayari
Sad Shayari
साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती,
दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती,
अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त,
कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती।

Saans Tham Jati Hai Par Jaan Nahi Jati,
Dard Hota Hai Par Awaz Nahi Aati,
Ajeeb Log Hai Iss Zamane Mein
Koi Bhul Nahi Pata or Kisi Ko Yaad Nahi Aati.

दर्द भरी सैड शायरी
फिर से एक उम्मीद पाल बैठी हूँ,
फिर से तेरे पते पर चिट्टी डाल बैठी हूँ।
Phir se ek ummeed paal baithi hoon,
Phir se tere pate par chitti daal baithi hu.

उसने भी मेरे कत्ल की साजिश में कोई कसर न छोड़ी,
जिसकी जिंदगी के वास्ते हर दरगाह पर जाकर दुआ की थी हमने।

मेरी उदासी मुझसे रोज़ मिलने आती हैं,
मुस्कुराकर हर बार उसे रूखसत कर देता हूँ।

सुकून की तलाश में निकले थे हम,
तो दर्द बोला.. औकात भूल गए क्या।

अब मै थक गयी हूं,
हवा से कह दो बुझा दे मुझे।

झूठी हँसी से जख्म और बढ़ता गया,
इससे अच्छा तो खुल कर रो लिए होते।

मिलकर भी उनसे हसरत-ए-मुलाकत रह गई,
बादल तो घर आये थे, बस “बरसात” रह गई।

ये किस मकाम पर जिंदगी मुझको लेके आ गयीं,
ना बस खुशी पे है जहाँ, ना गम पे इख़्तियार हैं।

था नही तकदीर में क्यूँ राह में आया,
क्या बिगाड़ा था तेरा निगाह में आया।

Read More:-Hindi Sad shayari